the sham

कौड़ियों के दाम बिकते हैं अब,
कौड़ियों में हैं खरीदे जाते ,
धोका है?
हाँ ! जनाब मंज़ूर है ये बी अब हमें;
मजबूरियां नजदीकियों की हैं ,
धोके ही सही;धोके में हैं जीए जाते..

White lies bartered for momentary pleasures
Angelic hymns resonating in the crimson-walled hell.
Glistening faces tainted; 
Eyes moist with fear of farce, gaping, amazed at the reality.




the silhouette lost forever.
forever lost 


can't be too late to say i was so wrong. 



Comments

Popular posts from this blog

your.ghost.

Let your fingers do the talking.